Thursday, June 16, 2016

bhajan

                  न जाने कौन से गुण पर दयानिधि रीझ जाते हैं -----
                   हर भक्त कहते हैं, यही सद्ग्रन्थ गाते हैं ---

१. नहीं स्वीकार करते है निमंत्रण नृप द्रुयोधन का,
                                        विदुर के घर पहुंचकर भोग छिलकों का लगाते हैं -----

२. न आये मधुपुरी से गोपियों की दुःख कथा सुनकर,
                                       द्रुपद जां की दशा पर द्वारिका से दौड़े आते हैं------

३. न रोये वन गमन में श्री पिता की वेदनाओं पर,
                                      उठाकर गीध को निज गोद में आँसू बहते हैं ---

४. कठिनता से चरण धोकर मिले कुछ बिंदु विधि हरी को,
                                    चरणोदक स्वयं केवट घर जाकर लुटाते हैं ---------

No comments:

Post a Comment