Saturday, March 22, 2014

bhajan




                 भगवान् को ढूँढन मैं निकली वो यहाँ मिले न वहाँ मिले -२ 


१. गंगा ढूंढी ,यमुना ढूंढी ,मैंने ढूंढ लई सरयू सारी -२ 

                                      मैंने ढूंढ लई सरयू सारी ,वो यहाँ मिले न वहाँ मिले ---

२. मंदिर ढूंडा ,मस्जिद ढूंढी ,मैंने ढूंढ लई गिरिजा सारी -२
                                      मैंने ढूंढ लई गिरिजा सारी ,वो यहाँ मिले न वहाँ मिले ---

३. काशी ढूंढी ,मथुरा ढूंढी मैंने ढूंढ लई गोकुल सारी -२      
                                     मैंने ढूंढ लई गोकुल सारी ,वो यहाँ मिले न वहाँ मिले ---

४. जब अंतर्मन में जोत जली ,तब सतगुरु ने उपदेश दिया -२
                                     तब सतगुरु ने उपदेश दिया ,मन मंदिर में भगवान् मिले ---


No comments:

Post a Comment