Sunday, April 28, 2013

SHREE SARSWATI STROTAM

  • रवि रूद्र पितामह विष्णुनुतम ,हरी चन्दन कुम कुम पंग  युतम ,मुनिव्रंद गड़ेंद्र समानयुतम ,तब नौमि सरस्वती पाद्युगम ॥ 
  • शशि शुद्ध सुधा हिमधाम युगम ,शरदाम्बबिबं   समानकरम ,बहुरत्न मनोहर कांति तव नौमि सरस्वती पाद्युगम ॥ 
  • कनकाब्ज विभूषित भूतिपदम ,भव भाव विभाषित भिन्न्पदम ,प्रभुचित्त समाहित साधुपदम ,तव नौमि सरस्वती पाद्युगम ॥ 
  • भव सागर भंजन धातिनुतं ,प्रतिपादित सन्तति कारमिदम ,विमलादिक  शुद्ध विशुद्ध पदम् ,तव नौमि सरस्वती पाद्युगम ॥ 
  • मतिहीन जनाश्रय पादमिदम ,सकलाममभाषित भिन्न्पदम ,परिकारित विश्वमंनेकभवं ,तव नौमि सरस्वती पाद्युगम ॥ 
  • परिपूर्णंनेकं धाम  निधिम  ,परमार्थ विचार विवेक निधिं ,सुरयादिक  सेवित पाद्तलम तव नौमि सरस्वती पाद्युगम ॥ 
  • सूरमौलिक  गध्य्तुशि शुभ्रकरम ,विश्यादि महाभय पापहरम ,निज कान्ति  विलेषित चन्द्र शिवम् ,तव नौमि सरस्वती पाद्युगम ॥ 
  • गुण नेक कुलाषित भीतिपदम ,गुण गौरव गौर्वित सत्यपदम ,कमलोदर कोमल पादतलम ,तव नौमि सरस्वती पाद्युगम ॥ 

No comments:

Post a Comment